दरारों पर दौड़ती ट्रेन दे रही हादसों को निमंत्रण, स्टेशन प्रबन्धन बेखबर

Published Date 2017/10/17 01:50, Written by- FirstIndia Correspondent
+2
+2

जोधपुर| फलोदी जंक्शन से महज 10 किमी दूर बीकानेर रेल खंड मार्ग स्थित मलार रेलवे स्टेशन से कुछ ही कदमों पर दूर रेलवे ट्रैक के नीचे बिछी मिट्टी में अब धीरे-धीरे बड़ी दरारें बनने लगी है, जो सरपट दौड़ती रेल के लिए किसी खतरे से खाली नहीं| आसपास की मुरड़ खोदकर ब्रिज से पहले 20-25 कदमों तक बना रेलवे ट्रैक इंजीनियर या ठेकेदार की लापरवाही साफ बयां कर रहा है, लेकिन इतने बड़े मामले से मलार रेलवे स्टेशन प्रबंधन पूरी तरह से बेखबर दिखाई दिया, जबकि स्टेशन परिसर खुद ही धीरे धीरे धंसता जा रहा है|

रेलवे स्टेशन के आसपास का हिस्सा तकरीबन ढलान की शक्ल में परिवर्तित हो चुका हैI इतना ही नहीं मलार से बाप की और बिछाई गई रेलवे ट्रैक के नीचे की मिट्टी बड़ी-बड़ी दरारों में तब्दील हो चुकी हैI फर्स्ट इंडिया द्वारा जब मलार स्टेशन प्रबंधक से बात की तो उन्होंने कहा कि ये काम रेलवे इंजीनियरिंग विभाग का है जो इसक पूरा रख-रखाव कार्य देखा करता है| ट्रैक के नीचे व आसपास की दरारे होने का साफ इंकार करते हुए स्टेशन प्रबंधक ने कहा कि स्टेशन के आसपास की मेन समय-समय पर चेकिंग करता है, अगर कुछ गड़बड़ होती तो वो अवश्य ही सूचना दे देता हैI 

बहरहाल स्टेशन मास्टर की बाते सुनकर तो लग रहा है कि ट्रैक के आसपास की दरारों से वाकई स्टेशन प्रबंधन अनजान है, लेकिन अब शायद फर्स्ट इंडिया द्वारा आगाह करने पर अपनी भूल पर लीपापोती कर दरारे दुरुस्त करवा ली जाए| गौरतलब है कि मलार रेलवे स्टेशन के चौतरफा बारिश के समय अत्यधिक जल भराव हो जाने से एक बड़ी नदी बन जाती है जो ट्रैक के नीचे की मिट्टी को अपनी और खींच लेती है| मिट्टी खिसकने से ट्रैक के नीचे बिछी मिट्टी में बड़ी-बड़ी दरारे पड़ जाती है जो अब भी जस की तस साफ दिखाई दे रही है जो समय रहते दुरुस्त नहीं किये जाने पर रेलवे की राह में रोड़ा जरूर बन जाएगी I    

 

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

Stories You May be Interested in


Most Related Stories


-------Advertisement--------



-------Advertisement--------