प्रद्युम्न हत्याकांड की गुत्थी सुलझी, 11 कक्षा के छात्र ने बताई मर्डर की पूरी दास्तां

Published Date 2017/11/09 11:10, Written by- FirstIndia Correspondent

नई दिल्ली| गुरुग्राम के रेयान इंटरनेशनल स्कूल में हुए प्रद्युम्न मर्डर केस की गुत्थी आखिरकार सुलझ ही गई| इस केस में पुलिस की पूरी तरह से पोल खुल चुकी हैं| पुलिस दबाव डालकर किसी को भी अपराध स्वीकार करवा कर, अपराधी करार दे सकते हैं| दो महीने से अशोक अपने गरीब और असहाय होने की सजा भुगत रहा हैं| बता दें कि अब सीबीआई जांच से सामने आए 'सच' से हर कोई चौंक गया है| कोई इस बात पर भरोसा नहीं कर पा रहा कि सिर्फ एग्जाम और पीटीएम टालने के लिए किसी मासूम बच्चे की हत्या की जा सकती है। सीबीआई जांच में पता चला है कि आरोपी कई दिनों से इसके लिए कोई तरीका खोजने में जुटा था और आखिरकार उसे हत्या के सिवा कोई और रास्ता नहीं सूझा। उसे लगता था कि 'कुछ बड़ा' होने पर ही स्कूल को बंद किए किया जाएगा। 

वहीं केंद्रीय जांच एजेंसी ने हरियाणा पुलिस द्वारा मुख्य आरोपी बनाए गए कंडक्टर अशोक कुमार को एक तरह से क्लीन चिट दे दी है। हरियाणा पुलिस ने दावा किया था कि प्रद्युम्न का यौन उत्पीड़न करने की कोशिश के दौरान अशोक ने उसे मार डाला था, लेकिन सीबीआई को अपनी जांच में उसके खिलाफ कुछ नहीं मिला। न ही प्रद्युम्न के यौन उत्पीड़न का कोई सबूत मिला। 

सीबीआई अधिकारी ने बताया कि आरोपी 11वीं के स्टूडेंट ने प्रद्युम्न को कोई जरूरी बात बताने का लालच देकर बाथरूम के अंदर बुलाया और कुछ सेकंड्स के अंदर उसका गला रेत दिया। अधिकारी ने कहा, 'किसी न किसी को तो उस दिन मरना था। वह इस तैयारी के साथ आया था कि आज वह किसी न किसी पर इस चाकू का इस्तेमाल करेगा। प्रद्युम्न दुर्भाग्य से गलत समय पर गलत जगह पहुंच गया।' 

आपको बता दें कि पूछताछ के दौरान आरोपी स्टूडेंट ने सीबीआई को बताया, 'मुझे कुछ समझ नहीं आया। मैं पूरा तरह ब्लैंक हो गया था और बस मैंने उसे मार डाला।' सीबीआई ने बताया कि अशोक को आरोपी बताते हुए हरियाणा पुलिस ने जिस चाकू को 'हत्या के हथियार' के तौर पर पेश किया था, आरोपी स्टूडेंट ने उसी का इस्तेमाल किया था। इस चाकू को हरियाणा पुलिस ने टॉइलट के कमोड से बरामद किया था। सीबीआई के मुताबिक, क्राइम स्पॉट का कई बार निरीक्षण, सीसीटीवी फुटेज की गहन जांच, कॉल रेकॉर्ड्स खंगालने और टीचर्स, स्टूडेंट्स सहित कई लोगों से पूछताछ के बाद वह आरोपी तक पहुंच पाई। 

सूत्रों ने बताया कि उस समय 11वीं क्लास के हाफ इयरली एग्जाम चल रहे थे। 6 सितंबर को आरोपी ने पहला एग्जाम दिया था और 8 सितंबर यानी हत्या वाले दिन उसे दूसरा एग्जाम देना था। जांच के दौरान सीबीआई को आरोपी स्टूडेंट का व्यवहार संदिग्ध नजर आया। उसे पता चला कि आरोपी ने अपने क्लासमेट्स से डींगे हांकते हुए कहा था उन्हें पढ़ने की कोई जरूरत नहीं है, क्योंकि वह एग्जाम को टलवा देगा। इसके बाद सीबीआई ने इस पहलू से जांच को आगे बढ़ाया तो कड़ियां जुड़ती चली गईं। 

दरअसल सीबीआई के मुताबिक, प्रद्युम्न का गला रेतने के बाद आरोपी ने स्कूल के माली को बाथरूम में 'घायल' हुए लड़के की जानकरी दी। जैसे ही वहां स्कूल के शिक्षकों और स्टाफ का जमावड़ा लगना शुरू हुआ, आरोपी चुपचाप जाकर अपनी क्लास में बैठ गया जहां एग्जाम शुरू हो चुका था। वह कुछ मिनटों की देरी से पहुंचा था। इसके कुछ देर बाद वही हुआ जो आरोपी चाहता था। एग्जाम को रद्द कर दिया गया, स्कूल को खाली करवा के बंद कर दिया गया। 

 

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

Stories You May be Interested in


Most Related Stories


-------Advertisement--------



-------Advertisement--------