मोब लिंचिंग मामले में रामगढ़ विधायक ज्ञानदेव आहूजा ने किया घटनास्थल का दौरा

FirstIndia Correspondent Published Date 2018/07/29 10:21

रामगढ़(अलवर)। रामगढ़ विधायक ज्ञानदेव आहूजा ने आज मोब लिंचिंग मामले में ललावंडी गांव का दौरा किया। यहां रकबर खान को जहां पीटा गया था वहां घटनास्थल पर पहुंचे। इस दौरान विधायक के साथ भाजपा कार्यकर्ता भी मौजूद रहे। विधायक ने कहा कि क्षेत्र में अपराध बढ़ने का कारण पुलिस की कार्यशैली है उनके विधानसभा क्षेत्र में पांच थाने हैं लेकिन सबसे ज्यादा शिकायतें रामगढ़ थाने की है। 

उन्होंने पुलिस के आला अधिकारियों पर आरोप लगाए और कहा कि यह घटनाएं उन्हीं की देन है। साथ ही रकबर खान और उसके साथी पर गौ तस्करी का मुकदमा दर्ज नहीं करने को लेकर भी मिलीभगत का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि जब दोनों लोग रात 1:00 बजे गायों को लेकर जा रहे थे तो गौ तस्करी का मुकदमा क्यों नहीं दर्ज किया गया। 

आहूजा ने कहा के राजस्थान सरकार ने भी एएसआई को निलंबित कर और 3 पुलिसकर्मियों को लाइन हाजिर कर मामले में इतिश्री कर ली है और आलाधिकारियों को बचा रही है। उन्होंने कहा कि जब भी नया SP आता है तो उसे 5 चीजें चाहते हैं जिसमें अवैध खनन पर रोक , सड़क किनारे काटे जाने वाले मुर्गे और बकरों का काम पर रोक, हरियाणा के लोगों द्वारा क्षेत्र में रात 1:00 बजे से 4:00 बजे तक गौ मांस की बिक्री की जाती है उस पर रोक, गोकशी पर रोक और लव जेहाद को लेकर 5 मौलानाओं का नाम लेते हुए आहूजा ने आरोप लगाया कि वह साजिश कराते हैं। इसमें राजनीतिक लोगों का भी सहयोग रहता है।
 

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in

India vs Pakistan, Asia Cup 2018 at Dubai | एशिया कप, भारत vs पाकिस्तान

RCA में घमासान, एडहॉक कमेटी पर प्रेस कॉन्फ्रेंस
केरल नन रेप केस: आरोपी बिशप से आज क्राइम ब्रांच के दफ्तर में होगी पूछताछ
भीमा कोरेगांव: SC में याचिकाकर्ता बोले- बिना तथ्यों के हुई गिरफ्तारी
राफेल डील में अनियमितता के आरोप, CAG में शिकायत लेकर पहुंची कांग्रेस
हैदराबाद: 62 साल के पति ने 29 साल की पत्नी को व्हाट्सएप पर दिया तलाक
जानिए ट्रिपल तलाक क्या है और कोर्ट ने क्या फैसला दिया है
ट्रिपल तलाक पर अध्यादेश को मंजूरी, मोदी सरकार ने प्रस्ताव को दी मंजूरी | Triple Talaq